दिवाली लक्ष्मी पूजा 2023: आरती करते समय क्या करें और क्या न करें

जैसे ही रात का आकाश आतिशबाजी की चमक से भर जाता है और घर दीयों की चमक से जगमगा उठते हैं, हमें एक बार फिर दिवाली की भव्यता की याद आ जाती है। अक्सर 'रोशनी का त्योहार' कहा जाता है, दिवाली आशा, समृद्धि और अंधेरे पर प्रकाश की विजय का प्रतीक है।

इस उत्सव का एक महत्वपूर्ण घटक लक्ष्मी पूजा है, एक ऐसा समय जब भक्त धन और समृद्धि की देवी देवी लक्ष्मी का आशीर्वाद मांगते हैं। आरती के अनुष्ठान के माध्यम से, हम अपनी श्रद्धा प्रकट करते हुए और आशीर्वाद मांगते हुए, अपना सम्मान व्यक्त करते हैं। इस गाइड का उद्देश्य दिवाली 2023 के दौरान लक्ष्मी आरती करते समय क्या करें और क्या न करें पर प्रकाश डालना है।

लक्ष्मी पूजा का महत्व:

देवी लक्ष्मी, जिन्हें अक्सर कमल पर बैठे हुए चित्रित किया जाता है, धन, समृद्धि और कल्याण की देवी के रूप में प्रतिष्ठित हैं। ऐसा माना जाता है कि दिवाली पर वह घरों में जाती हैं और अपने भक्तों को आशीर्वाद देती हैं। लक्ष्मी पूजा का अनुष्ठान न केवल भौतिक समृद्धि बल्कि आध्यात्मिक समृद्धि भी चाहता है। इस समारोह का सार हमारे पास जो कुछ है उसके लिए आभार व्यक्त करना और समृद्ध भविष्य के लिए आशीर्वाद मांगना है।

यह भी पढ़ें- दिवाली पूजा विधि और घर के लिए सामग्री: एक व्यापक मार्गदर्शिका

लक्ष्मी आरती की तैयारी:

लक्ष्मी पूजा के दौरान माहौल भक्ति, प्रेम और सम्मान से गूंजना चाहिए। तैयारियां आम तौर पर इससे शुरू होती हैं:

  • घर की सफाई: भौतिक सफाई से परे, यह कार्य हमारे पर्यावरण और जीवन को नकारात्मकता से मुक्त करने का प्रतीक है।
  • वेदी की स्थापना: एक साफ स्थान चुनें, अधिमानतः अपने घर के उत्तर-पूर्व कोने में। इसे लक्ष्मी और भगवान गणेश की मूर्तियों, तस्वीरों और प्रतीकों से सजाएं।
  • आवश्यक वस्तुएं इकट्ठा करना: अनुष्ठान में विशिष्ट वस्तुओं की मांग की जाती है जैसे घी से भरे दीये, ताजे फूल, अगरबत्ती, मिठाई या प्रसाद, एक घंटी और एक आरती थाली।

लक्ष्मी आरती करते समय क्या करें:

  • स्पष्ट इरादे से शुरुआत करें: अनुष्ठान में ईमानदारी से लगें। समझें कि आप ऐसा क्यों कर रहे हैं और आप परमात्मा से क्या चाह रहे हैं।
  • पारंपरिक अनुक्रम का पालन करें: सबसे पहले भगवान गणेश को सम्मान देना आवश्यक है क्योंकि उन्हें बाधाओं का निवारण करने वाला माना जाता है। तभी लक्ष्मी पूजा के लिए आगे बढ़ना उचित है।
  • फोकस के साथ जप करें: चाहे आप मंत्र पढ़ रहे हों या भजन गा रहे हों, इसे स्पष्टता और एकाग्रता के साथ करें।
  • शुद्ध सामग्रियों का उपयोग करें: आपके प्रसाद की शुद्धता आपकी ईमानदारी से मेल खाती है। घी के दीये और ताज़ा प्रसाद चुनें।
  • परिवार को शामिल करें: सामूहिक प्रार्थना में अपार ऊर्जा होती है। सुनिश्चित करें कि परिवार के सभी सदस्य भाग लें।
  • आरती की थाली को दक्षिणावर्त घुमाएं: यह गति ब्रह्मांड की प्राकृतिक व्यवस्था के अनुरूप है और माना जाता है कि यह सकारात्मक ऊर्जा का आह्वान करती है।

लक्ष्मी आरती करते समय क्या न करें:

  • ध्यान भटकाने से बचें: यह एक पवित्र समय है। गैजेट को दूर रखें और बिना किसी रुकावट के शांत वातावरण सुनिश्चित करें।
  • जल्दबाजी न करें: यह कोई ऐसा काम नहीं है जिसे टाल दिया जाए। अपना समय लें, भक्ति को प्रवाहित होने दें।
  • सिंथेटिक सामग्रियों से बचें: कृत्रिम धूप या तेल सुविधाजनक हो सकते हैं लेकिन प्राकृतिक चीजों का ही उपयोग करने का प्रयास करें।
  • श्रृंखला न तोड़ें: गाते या जप करते समय निरंतर लय बनाए रखने से ऊर्जा बढ़ती है।
  • अनुचित पोशाक पहनने से बचें: पारंपरिक पोशाक न केवल अनुष्ठान का सम्मान करती है बल्कि आपको त्योहार के सार के साथ बेहतर ढंग से जुड़ने में भी मदद करती है।
  • नकारात्मक विचारों से बचें: अपने मन को शांत और सकारात्मक रखें। याद रखें, आपके विचारों में ऊर्जा है।

आरती का समापन:

आरती पूरी करने के बाद प्रसाद को सभी प्रतिभागियों में बांट दें। घर के चारों ओर दीये जलाने की प्रथा है, जो हमारे दिलों और घरों की रोशनी का प्रतीक है। ध्यान करने या मौन प्रार्थना करने के लिए कुछ क्षण निकालें। दिवाली और लक्ष्मी से जुड़ी पौराणिक कहानियों को साझा करने से भी उत्सव में और गहराई आ सकती है।

बोनस युक्तियाँ:

  • रंगोली और लक्ष्मी पूजा: अपने दरवाजे पर रंगोली बनाना सिर्फ एक कला नहीं है बल्कि देवी लक्ष्मी को निमंत्रण देना है। जीवंत रंग और पैटर्न सकारात्मकता और समृद्धि का संकेत देते हैं।
  • संगीत और भजन: भावपूर्ण भजनों को शामिल करने से आध्यात्मिक माहौल ऊंचा हो सकता है। आप क्लासिक्स या समकालीन भजनों पर भी विचार कर सकते हैं जो आपके दिल में गूंजते हैं।
  • मंत्र और श्लोक: यदि आप मंत्रों को शामिल करने के इच्छुक हैं, तो 'ओम श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद' एक शक्तिशाली लक्ष्मी मंत्र है।

निष्कर्ष:

दिवाली के दौरान लक्ष्मी पूजा सिर्फ एक अनुष्ठान से कहीं अधिक है। यह कृतज्ञता, आशा और दिव्य आशीर्वाद का एक सुंदर संगम है। क्या करें का पालन करके और क्या न करें से सावधान रहकर, आप एक सामंजस्यपूर्ण और सार्थक लक्ष्मी आरती सुनिश्चित कर सकते हैं। याद रखें, ईमानदारी और दिल की भक्ति ही सबसे ज्यादा मायने रखती है। तो, इस दिवाली, आइए त्योहार की भावना को खुशी, प्यार और श्रद्धा के साथ अपनाएं।

दिवाली लक्ष्मी पूजा 2023: आरती करते समय क्या करें और क्या न करें पोस्ट सबसे पहले पूजाहोम पर दिखाई दी।

ब्लॉग पर वापस जाएँ